बच्चों - शिशु के स्वास्थ्य की देखभाल कैसे करें

 

सुन्नत

लड़के के लिंग के ऊपर एक त्वचा होती है जिसे खलड़ी (फोरस्किन) कहते हैं। सुन्नत में इस त्वचा को शल्य चिकित्सा से निकाल दिया जाता हो जिससे लिंग का सिरा खुला रहता है।

Circumcision

 
 

यह अच्छा होता है कि जन्म के 2 से 3 सप्ताह के भीतर सुन्नत करा लिया जाए क्योंकि जैसे जैसे बच्चा बढ़ता जाता है, जटिलताएं भी बढ़ती जाती हैं। सामान्यतः पहले 10 दिन के भीतर (अक्सर पहले 48 घंटों के भीतर) बच्चों का सुन्नत करा लिया जाता है।

समय से पहले पैदा हुआ बच्चा या ऐसे बच्चे जिनमें अन्य कोई जटिलताएं पायी जाती है, उनका सुन्नत तब तक नहीं किया जाता जब तक कि उनकी अस्पताल से छुट्टी नहीं हो जाती।


ऐसे बच्चे जिनके लिंग में असामान्यता हो और जिसे शल्य चिकित्सा से ठीक कराया जाना हो, उनका सुन्नत नहीं किया जाता क्योंकि खलड़ी (फोरस्किन) के उपयोग की आवश्यकता लिंग को ठीक करते समय पड़ सकती है।

सुन्नत लिंग की देख-भाल

जब भी आप ऐसे बच्चों को नहला रहे हों, गर्म पानी और साबुन से इसे अच्छी तरह धोएं।

बहुत ही धीरे-धीरे इसे धोएं क्योंकि सुन्नत के बाद बच्चे को थोड़ी तकलीफ हो सकती है।

कटे भाग पर यदि कोई पट्टी लगी हो तो आवश्यकता पड़ने पर उसे निकालकर नयी पट्टी बांध दें।

घाव को सूखने में 7 से 10 दिन लग सकता है। तब तक लिंग का आगे वाला हिस्सा कच्चा या पीले रंग का होगा।

डॉक्टर से परामर्श करें जब-

खून बंद न हो रहा हो

लिंग के आगे वाला भाग लाल हो और 3 दिन के बाद स्थिति खराब हो रही हो

बुखार हो

संक्रमण हो जैसे कि पीव लिया हुआ फफोला

सुन्नत के 6 से 8 घंटे के भीतर सामान्यतः पेशाब न कर रहा हो

 

बच्चों / शिशु में स्वास्थ्य समस्याएँ

 

top women in the world