महिलाओं में आत्महत्या की प्रवृत्ति कम करती है ज्यादा संतान का होना

मां बनने का एहसास महिलाओं का आत्म सम्मान बढ़ाता है और अगर संतानों की संख्या ज्यादा हो तो उनमें आत्महत्या की प्रवृत्ति कम हो जाती है। एक नये अध्ययन में यह बात सामने आई है। ताइवान के काओशियूंग मेडिकल विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने इस शोध को अंजाम देने के लिए 12,92,462 महिलाओं के बीस साल के आंकड़ों को खंगाला और पाया कि मां बनने की भावना महिलाओं में सुरक्षात्मक प्रभाव को बढाता है और उनमें खुदकशी के ख्याल को कम कर देता है। शोधकर्ताओं ने पाया कि बच्चों की संख्या जितनी होगी खुदकशी करने की प्रवृत्ति उतनी ही कम होगी।

 
 
 

द टेलीग्राफ की खबर में बताया गया कि एक बच्चे की माताओं की तुलना में दो बच्चों की मांओं में आत्महत्या की प्रवृत्ति 39 फीसदी तक कम हो जाती है। अध्ययन के मुताबिक, तीन बच्चों की मांओं में यह 60 प्रतिशत तक कम हो जाती है। शोधकर्ताओं का कहना है कि आत्महत्या की प्रवृत्ति में कमी आने की वजह जन्म देने के बाद महिलाओं में खुशी ओर आत्म विश्वास का बढना होता है। अध्ययन को करने वाले दल के अगुवा डॉ़ चुन युह यांग ने बताया कि बच्चों की बढती संख्या के साथ खुदकशी की प्रवृत्ति में साफ कमी पायी गई।

.

मैं स्त्री होम पेज

 

top women in the world