गर्भवती महिला की सामान्य देखभाल : व्यायाम

 

गर्भकाल के दौरान व्ययाम क्यों करना चाहिए?

निम्नलिखित कारणों से व्यायाम करना चाहिए

(1) आकृति और अभिव्यक्ति में सुधार लाने के लिए

(2) पीठ दर्द से छुटकारे के लिए

(3) प्रसव काल के लिए मांसपेशियों को सशक्त बनाने और ढीले पड़े जोड़ो को सहारा देने के लिए

 

 
 
 

(4) मांसपेशियों के कैम्पस से राहत के लिए

(5) रक्त संचार को बढ़ाने के लिए

(6) लचीलेपन को बढ़ाने के लिए

(7) थकावट दूर करने के लिए ऊर्जा वृद्धि के लिए

(8) भले चंगे होने की भावना भरने और आत्मछवि के सकारात्मक विकास के लिए। आपका डॉक्टर आप को सही ढंग से व्ययाम के सम्बन्ध में बतायेगा।

क्या व्यायाम से मेरे बच्चे को लाभ पहुंचेगा?

हां भ्रूण के लिए व्यायाम अति उत्तम है क्योंकि इस से रक्त प्रवाह बढ़ता है और बच्चे की वृद्धि और विकास को सुधारता है। व्यायाम से बच्चे का मस्तिष्क और अन्य टिशु श्रेष्ठ स्थिति में काम करने लगते हैं।

गर्भकाल के दौरान कौन सा व्यायाम सुरक्षित माना जाता है?

किसी प्रकार के खेल-कूद या व्ययाम को जारी रखने में कोई समस्या नहीं है, जब तक कि वह सीमा में हो। फिर बी पहले डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

किस प्रकार का व्यायाम बिल्कुल नहीं करना चाहिए?

जॉगिंग जैसा व्यायाम रीढ, श्रोणि, नितम्बों, घुटनों स्तनों और पीठ पर बड़ा भारी पड़ता है। इसलिए उसे नहीं करना चाहिए। जिस व्यायाम से पेट की मांसपेशियां खिंचे जैसे टांगे उठाना, उठक बैठक भी गर्भ के दौरान नहीं करने चाहिए। और गर्भवती नवीन चेष्टाओं से तालमेल बैठाने में शरीर को कुछ समय लगता है। चौथे महीने के बाद, पीठ के बल लेटकर व्यायाम न करें, क्योंकि आपके गर्भाशय का वज़न रक्त वाहिकाओं को दबा सकता है और रक्त भ्रमण में बाधा दे सकता है।

 

गर्भ धारण

 

top women in the world