गर्भ निरोधक : मूलभूत शारीरिक तापमान प्रणाली - बी बी टी

 

मूलभूत शारीरिक तापमान प्रणाली क्या है? (बी बी टी)

यह प्रणाली इस तथ्य पर आधारित है कि अण्डा निःसृति के समय के आसपास शरीर का तापमान 0.5 डिग्री से 1 डिग्री तक बढ़ जाता है। जब तापमान को निरन्तर बढ़ते देखें और अगर वह कम से कम तीन दिन तक रहे तो समझ लें कि अण्डा निःसृत हो गया है, इससे यह समझा जा सकता है चक्र के शेष भाग में सम्भोग करते रहने से गर्भधारण नहीं होगा।

 
 
 

बी बी टी प्रणाली को कैसे किया जाता है?

सुबह बिस्तत से उठने से पहले हर रोज महिला को अपना तापमान देखना होता है। देखकर उसे एक चार्ट में रिकार्ड करें ताकि आप दिन प्रतिदिन के उतार चढ़ाव को देख सकें। जिस दिन शरीर का तापमान बढ़ा हुआ रहे उस दिन और उसके बाद सात दिन तक सम्भोग से परहेज करें।

 


बी बी टी प्रणाली की प्रभविष्णुता कैसी है?

बी बी टी प्रणाली की असफलता औसतन 15 प्रतिशत की है पर सही इस्तेमाल करने वालों के लिए 2 प्रतिशत प्रतिवर्ष जैसी कम भी है।

 

प्राकृतिक परिवार नियोजन विधि

 

top women in the world