वीर्य स्खलन के समय वीर्य को रोक देन से पुरुष के स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव पड़ता है?

वीर्य स्खलन के समय वीर्य को रोक देन से पुरुष के स्वास्थ्य पर विपरित प्रभाव पड़ता है। कई बार लोग यह सोचते हैं कि अगर संभोग क्रिया के समय स्खलन होने से पहले वीर्य को रोक लेने से वीर्य का नाश होने से रोका जा सकता है और इस क्रिया का पूरी तरह से आनंद भी लिया जा सकता है। लेकिन यह सिर्फ मन का वहम ही है क्योंकि एक बार वीर्य जब अपनी जगह से हट जाता है तो उसी रूप में स्थिर नहीं रहता।

 
 
 

हस्तमैथून करने वाले पुरुषों में यह मानसिकता रहती है। वे कई तरीके से लिंग को उत्तेजित करते हैं फिर बिस्तर के सहारे लिंग को नीचे की ओर मोड़कर लिंग से वीर्य को बाहर नहीं आने देते। ऎसे में वीर्य मूत्राशय में जाकर रुक जाता है। इसके कारण पुरुष के पथरी, सूजन और गुदा के भाग में मस्से आदि हो जाते हैं। इसलिए वीर्य स्खलन के समय वीर्य को स्खलित होने देना चाहिए।

 

 

 

top women in the world